मध्य कालीन भारत के प्रमुख वंश एवं शासक –history short notes part 2

       मध्य कालीन भारत के प्रमुख वंश एवं शासक –history short notes part 2                                                                                             

                                                       खिलजी वंश -(1290-1320ई0)

                                                      

>खिलजी वंश का संस्थापक ‘जल्लालुद्दीन खिलजी था जो की एक 60-70 बर्ष का बुजुर्ग था /                                                    

>खिलजी के दरबार मे प्रथम कवि ‘अमीर खुसरो ‘ थे /
>जल्लालुद्दीन का भतीजा अल्लाउदीन था उसने देवगिरि के यादव राजा को हटाकर अपार धन अर्जित किया तथा उसने धोखे से अपने चाचा की हत्या करके दिल्ली की सत्ता अपने हाथ मे ले ली /
>दक्षिण पर विजय करने वाला प्रथम मुस्लिम अल्लाउददीन खिलजी था /                                                                                               
>अल्लाउददीन खिलजी ने सिरीफोर्ट,जलालूद्दीन का मकबरा और हौज-ई-अलाई का निर्माण कराया / 
>अमीर खुसरो एटा जिले के पटियाली गाव के निवासी थे इन्होने तबले का अविष्कार किया /
>अल्लाउददीन खिलजी ने मालिक काफ़ुर को 1000 दिनार मे खरीदा इसलिए मालिक को हजार दिनारी भी कहा जाता है /
>मलिक काफ़ुर को तेलांगनाके शासक रुद्रप्रताप देव ने कोहिनूर का हीरा प्रदान किया /
>अल्लाउददीन खिलजी की म्रत्यु के बाद मालिक काफ़ुर ने दिल्ली की सत्ता अपने हाथ मे ले ली / परंतु
अल्लाउददीन के भाई कुत्तुबुड्डीन मुबारक खिलजी ने मालिक काफ़ुर की हत्या करके दिल्ली के सुल्तान पद
को ग्रहण किया /
>कुतुबूद्दीन मुबारक को ‘नंगा ‘ बादशाह भी कहा जाता है /

                                                          तुगलक वंश –(1320-1413ई0)

>तुगलक वंश का संस्थापक ग्यासुद्दीन तुगलक था /
>इसे गाजी मालिक के नाम से भी जाना जाता है /
>ग्यासुद्दीन तुगलक ने भारत मे नहरों का निर्माण कराया /
>ग्यासुद्दीन तुगलक ने दिल्ली मे ‘तुगलकाबाद ‘नामक नगर बसाकर उसे अपनी राजधानी बनाया /

           ”मोहम्मद बिन तुगलक ”–(1325-1351ई0)

>मोहम्मद बिन तुगलक को बुद्धिमान मूर्ख राजा भी कहा जाता है /(पागल या सनकी ) उसका उपनाम ”जुनां खाँ ”था/
>मोहम्मद बिन तुगलक के जीवनकाल मे पाँच ऐसे महत्वपूर्ण फैसले लिए जो विफल हुये -दोआब क्षेत्र मे कर व्रद्धि,सांकेतिक मुद्रा,राजधानी का स्थानांतरण ,खुरासान अभियान ,कराचील अभियान /
>मोहम्मद बिन तुगलक के समय मे मास्को का प्रसिद्ध यात्री ‘इबनबातूता’ भारत आया /
>’इबनबातूता’ को इसने अपना काजी नियुक्त किया /’इबनबातूता’ ने ‘रूहेला ‘नामक पुस्तक लिखी /

           फिरोज़शाह तुगलक –(1351-1388ई0)

>फिरोज़शाह तुगलक ने भारत मे लगभग 300 नहरों का निर्माण कराया /
>फिरोज़शाह ने हिसार ,जौनपुर ,फीरोजाबाद (दिल्ली ) फ़तेहपुर ,कोटला आदि नगरो की स्थापना की /
>प्रसिद्ध इतिहासकार ‘बरनी’ उसका दरबारी था /

               सैय्यद वंश –(1414-1451ई0)

इस वंश का संस्थापक ‘खिज्र खाँ ‘था /

                   लोधी वंश -(1451-1526ई0)

>लोधी वंश की स्थापना ‘बहलोल लोधी ‘ने की /

>सिकंदर लोधी ने भारत मे 1504ई0 मे आगरा शहर की स्थापना की /
>इब्राहिम लोधी इस वंश का अंतिम शासक था / इसकी क्रूरता के कारण इसके चाचा ‘दौलत खाँ लोधी ‘
ने बाबर को आमंत्रित किया /
बाबर ने 1526ई0 मे पानीपत के प्रथम युद्ध मे इब्राहिम लोधी को पराजित करके ‘मुगल वंश ‘की स्थापना की /

 

पिछला पढ़ने के लिए                                                                                                                            आगे पढ़ने के लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *